You are currently viewing दूसरी शादी करने के टोटके – Doosri shaadi karane ke totke.
tantra-totke-jyotish-totke-Doosri-shadi-krne-ke-upaye

दूसरी शादी करने के टोटके – Doosri shaadi karane ke totke.

दूसरी शादी करने के टोटके

दूसरी शादी करने के टोटके, एक विवाहित व्यक्ति अपने जीवनसाथी के साथ खुशी से रह रहा है तो ये कहना गलत नहीं होगा कि वह व्यक्ति आज के समय में सबसे खुशहाल व्यक्ति है। वैवाहिक जीवन में पति-पत्नी के बीच प्रेम और विश्वास का होना बहुत जरूरी है।

दूसरी शादी करने के टोटके
दूसरी शादी करने के टोटके

लेकिन कई बार कुछ लोगों की ज़िन्दगी में ऐसी अप्रिय और अनहोनी घटनाएं घटित हो जाती है, जिसके चलते उनके वैवाहिक जीवन पर किसी की नजर लग जाती है। ऐसे में पति-पत्नी के बीच रोजाना लड़ाई-झगड़े और क्लेश होने लगते है और बात तलाक तक पहुंच जाती है।

ये है दूसरी शादी करने के आसान उपाय और जानिए कैसे बनता है कुंडली में दूसरी शादी का योग

वहीं कई बार पति-पत्नी में से किसी एक की अकाल मृत्यु होने के बाद भी लोग अकेलापन महसूस करने लगते है। ऐसे में आप दूसरी शादी करने के टोटकों का सहारा लेकर एक बार फिर से अपने जीवन का अकेलापन दूर कर सकते है। यदि आप भी दूसरी शादी करने की इच्छा रखते है, लेकिन उसमें किसी प्रकार की बाधा आ रही है, तो आप दूसरी शादी करने के टोटको का सहारा ले सकते है।

  • दूसरी शादी करने के टोटको के दो उपाय हम आपको बताएंगे। ये दोनों ही उपाय बेहद सरल है। दूसरी शादी करने के टोटके की शुरूआत आप किसी भी बुधवार से कर सकते है। इसके लिए 21 हफ्तों तक प्रत्येक बुधवार को सुबह के समय गाय को अपने हाथों से हरा चारा खिलाना है। ऐसा करने से आमतौर पर 21 हफ्तों तक इंतजार नहीं करना पड़ता और उससे पहले ही आपके दूसरे विवाह का योग बन जाताहै।
  • दूसरी शादी करने के टोटको में दूसरा उपाय भी बेहद सरल है। इसके लिए बुधवार के दिन ही सूर्यास्त के समय अपने घर के पूजन स्थल पर एक मिट्टी के दीपक में चमेली का तेल और एक इलायची डालकर भगवान गणेश की मूर्ति या फोटो के समक्ष जलाएं। इसके बाद भगवान गणेश का नाम लेते हुए एक माला जप भी अवश्य करें। जब तक आपका रिश्ता पक्का नहीं हो जाता, तब तक दूसरी शादी करने का यह टोटका आपको नियमित रूप से प्रत्येक बुधवार को अपनाना है।

दूसरी शादी करने के उपाय

दूसरी शादी करने के उपाय, इस लंबे जीवन का सफर एक अकेले व्यक्ति के लिए बहुत मुश्किल हो जाता है। हर व्यक्ति चाहता है कि उसके जीवन में भी कोई ऐसा खास व्यक्ति या जीवनसाथी हो जिसके साथ वह अपना हर सुख-दुख बांट सके। लेकिन कई बार पहली शादी टूट जाने पर कुछ लोग निराश हो जाते है और दूसरी शादी के लिए प्रयत्न ही नहीं करते। कुछ लोग प्रयत्न तो करते है, लेकिन अच्छा रिश्ता ना मिलने के कारण हार मान लेते है। ऐसे व्यक्तियों को दूसरी शादी करने के उपाय अवश्य अपनाने चाहिए।

  • कई बार सूर्य की बाधा होने पर भी विवाह में देरी आ रही होती है। ऐसे में जब भी आप विवाह के लिए वर या वधु देखने जाए तो घर से निकलने से पहले थोड़ा सा गुड़ और पानी का ग्रहण करके जाना चाहिए। दूसरी शादी करने का यह उपाय बेहद ही सरल है। इसके अलावा विवाह योग्य वर-वधु का जब तक रिश्ता पक्का ना हो जाए, उनकी माता को गुड़ का त्याग कर देना है। रिश्ता पक्का होने के बाद अगर मां गुड़ खाए तो उनके बच्चों का रिश्ता पूरी ज़िन्दगी अटूट रहता है।

कुंडली में दूसरी शादी का योग

कुंडली में दूसरी शादी का योग, मनु स्मृति में लिखा है कि एक पुरूष कभी संपूर्ण इंसान नहीं हो सकता। संपूर्ण पुरूष बनने के लिए विवाह जरूरी है। विवाह के बाद ही इस सृष्टि में नया जीव पैदा हो सकता है। आज के समय में विवाह के बाद तलाक होना एक आम बात हो गई है। विवाह केवल एक समझौता नहीं होता। एक सुखी वैवाहिक जीवन के लिए दो लोगों का दिल मिलना बहुत जरूरी है।

कई बार ना चाहते हुए भी कुछ रिश्ते टूट जाते है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनकी कुंडली में दूसरी शादी का योग होता है। कुंडली के दूसरे और सप्तम स्थान में ग्रहों की चाल और दशा के अनुसार ही यह तय होता है कि व्यक्ति की कुंडली में दसरी शादी का योग बन रहा है या नहीं। कुंडली में दूसरी शादी का योग किस प्रकार बनता है, आइये जान लेते है-

  • सप्तमेश और द्वितियेश शुक्र के साथ हो अथवा पापग्रह के साथ होकर 6, 8 व 12वें भाव में हो तोउस व्यक्ति की जीवनसाथी की मृत्यु के बाद दूसरी शादी निश्चित होती है।
  • यदि सप्तम या अष्टम स्थान में पापग्रह और मंगल द्वादश भाव में हो तथा द्वादश अदृश्य चक्रार्ध में हो तो जातक का दूसरा विवाह अवश्य होता है।
  • लग्न, सप्तम स्थान और चन्द्र लग्न-ये तीनों द्विस्भाव राशि में हो तो जातक के दो विवाह होते है।
  • सप्तम भाव में बहुत सारे पापग्रह हो तथा सप्तमेश पापग्रहों से युक्त हो तो जातक के दो या दो से अधिक विवाह हो सकते है।

दूसरी शादी जल्दी होने के उपाय

दूसरी शादी जल्दी होने के उपाय, यदि किसी व्यक्ति का एक विवाह असफल हो जाता है और वह दूसरा विवाह करना चाहता है तो उसमें कई प्रकार की बाधाएं और अड़चनें आने लगती है। समाज में ऐसे लोगों की छवि बिगड़ने लगती है। दूसरी शादी जल्दी होने के उपाय के लिए कुछ लोग हवन आदि कराकर घर को शुद्ध कर लेते है।

इसके अलावा कुछ लोग तांत्रिकों के पास जाकर झाड़ा लगवाकर नजर भी उतरवाते है। लेकिन इन सबसे कुछ फायदा ना होने के कारण वह अकेले जीवन काटने को मजबूर हो जाते है। ऐसे लोगों को निराश ना होकर दूसरी शादी जल्दी होने के उपाय का सहारा लेना चाहिए-

  • जिस व्यक्ति के दूसरे विवाह में देरी हो रही है, वे सोमवार के दिन 1200 ग्राम चने की दाल और सवा लीटर कच्चा दूध किसी जरूरतमंद को दान में दे। दूसरी शादी जल्दी होने के उपाय करते हुए ध्यान रखना है कि दाल घर पर रखी नहीं होनी चाहिए। बाजार से खरीदकर ही आपको दाल दान करनी है। इसके अलावा दान में देने वाला दूध भी कच्चा ही होना चाहिए।
  • घर में खरगोश का जोड़ा पालने से दूसरे विवाह में आ रही दिक्कतें दूर हो जाती है।
  • कुंडली में शनि की दशा भारी होने के कारण भी विवाह के योग में देरी होती है। इसे दूर करने के लिए शनिवार को शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए। साथ ही एक काले कपड़े में साबुत उड़द, लोहे का टुकड़ा, काला तिल और एक साबुन बांधकर दान करने से भी लाभ होता है।

पत्नी से छुटकारा पाने के उपाय बताये

दूसरी शादी करने के टोटके – Doosri shaadi karane ke totke.,
दूसरी शादी करने के लिए क्या करना चाहिए?
अच्छा जीवनसाथी पाने के लिए क्या करना चाहिए?
अगर शादी नहीं हो तो क्या करना चाहिए?
शीघ्र विवाह के लिए क्या करें?

Any other Enquiry Call and Wahtsapp

+91 9950528152

You Want to Buy this Product discuss with pandit ji he will guide you how to buy and use this product.

Leave a Reply