सर्वजन वशीकरण टोटके – Sarvajan Vashikaran Totke – सर्व-जन आकर्षण मंत्र – नाम लिखकर वशीकरण

सर्वजन वशीकरण टोटके, दोस्तों आज हम आपको सर्वजन मोहन मंत्र और महा सर्वजन वशीकरण मंत्र साधना के बारे मे बतायेगे. आप हमारा ये पोस्ट सर्वजन वशीकरण तिलक धयान से पढ़े. सर्वजन वशीकरण टोटके और मंत्र को बहुत ही प्रभावशाली माना गया है और यह करने में भी बहुत आसान होता है इसे कोई भी व्यक्ति कर सकता है। आप अगर चाहो तो किसी तांत्रिक या बाबाओं की मदद से भी कर सकते हो सर्वजन वशीकरण टोटके मगर आज हम आप को उन बाबाओं और तांत्रिक वाला ही कुछ आसान और सरल वशीकरण टोटका बताएंगे जिसे आप अपना कर किसी भी व्यक्ति पर उपयोग कर सकते है। तो चलिए जानते है उन सरल और आसान वशीकरण…

0 Comments
Read more about the article सर्वजन वशीकरण टोटके – Sarvajan Vashikaran Totke – सर्व-जन आकर्षण मंत्र – नाम लिखकर वशीकरण
srawjan-vashikaran-totka-best-astrologer-jyotish-totke

संतान प्राप्ति के योग – पुत्र प्राप्ति के योग कैसे बनते हैं ?

संतान प्राप्ति के योग संतान प्राप्ति के योग – संतान प्राप्ति में आपकी कु्रडली में स्थित ग्रहों की दशा का बहुत महत्वपूर्ण स्थान होता है। कुंडली के द्वारा यह जानना संभव है कि आपके भाग्य में कितनी संतानों का सुख है। यदि आपके जीवन में संतान प्राप्ति में कोई बाधा आ रही है, तो कुंडली में स्थित ग्रहों की स्थिति द्वारा उस बाधा के विषय में भी जाना जा सकता है। आपकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति के बनने के भी अनेक कारण होते हैं, जिन्हें समझनें के लिए आइए कुछ उदाहरण देखते हैं – यदि आपकी कुंडली में गुरू पाँचवें भाव में स्थित है और वह मज़बूत स्थिति में हैं, तो आपकी होने वाली संतान सदैव आपकी आज्ञा का पालन करने वाली होगी।यदि आपकी कुंडली में पंचमेश बलवान है और वह लग्न, पंचम या नवम भाव में विराजमान है, साथ ही किसी भी पापी ग्रह की कुदृष्टि दस पर नहीं हैं, तो संतान उत्पत्ति में कोई बाधा नहीं आती।कुंडली में यदि जन्म लग्न और चंद्रमा लग्न पाँचवें भाव के स्वामी बृहस्पति यदि किसी शुभ स्थान पर स्थित हैं, तो आपको अवश्य ही संतान की प्राप्ति होगी।ज्योतिषशास्त्र में ऐसा माना जाता है कि यदि पंचमेश स्वगृही होने के साथ–साथ शुभ गृह भी हो, तो यह स्थिति संतान प्राप्ति के लिए अनुकूल मानी जाती है।ज्योतिषशास्त्र के अनुसार यदि कुंडली में बृहस्पति मज़बूत हो और लग्न का स्वामी पाँचवें भाव में विराजमान हो, तो सह स्थिति भी संतान कारक कहलाती है।यदि एकादश भाव में बुध, शुक्र या चंद्र में से एक भी ग्रह की उपस्थिति हो, तो संतान प्राप्ति होती है। ऐसे ही पाँचवें भाव में मेष, वृष या कर्क राशि में केतू विराजमान हो, तो सरलता से संतान की प्राप्ति होती है।कुंडली में यदि लग्नेश और नवमेश सातवें भाव में स्थित हों, तो संतान प्राप्त होती है। इसी प्रकार लग्नेश पर बृहस्पति की शुभ दृष्टि को भी दस अृष्टि से लाभदायक माना जाता है।यदि नवम भाव में गुरू, शुक्र और पंचमेश की उपस्थिति हो, तो इसे उत्तम संतान योग माना जाता है। ज्योतिष के अनुसार लग्न से पंचम भाव शुक्र और चंद्रमा के वर्ग में स्थित हों और चंद्रमा से संबंधित हो, तो ऐसे योग से अनेक संतान प्राप्ति होने की संभावना होती है, परंतु इसी स्थिति में यदि अशुभ गृहों की कुदृष्टि हो, तो संतान प्राप्ति में बाधा उत्पन्न होती है। पाँचवें भाव में यदि वृष, सिंह, कन्या या वृश्चिक राशि सूर्य के साथ में हों आठवें भाव में शनि तथा लग्न स्थान पर मंगल की उपस्थिति हो, तो संतान प्राप्त करने में विलंब होता है। संतान प्राप्ति के संबंध में ज्योतिष में पंचम भाव को अधिक महत्व दिया जाता है। इसका कारण यह है कि पंचम भाव संतान भाव भी कहलाता है। गुरू पंचम भाव का कारक ग्रह है, गुरू इस भाव का कारक होने के कारण संतान, ज्ञान और सम्मान प्रदान करता है। संतान प्राप्ति के लिए पंचम भाव का विशेष महत्व है, कुंडली में यदि इस योग में अशुभता हो, तो यह संतान से वियोग का कारण बनता है। संतान के संबंध में पंचमेश तथा अष्टमेश का परिवर्तन योंग अशुभ योग माना जाता है। ऐसा योग संतान को उसकी पैतृक संपत्ति से दूर करता है। व्यक्ति स्वयं से असंतुष्ट और दुखी रहता है। यह योग स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है। ज्योतिष के अनुसार संतान प्राप्ति के उपाय – यदि किसी की कुंडली में सूर्य ग्रह नीच व शत्रु आदि राशि, नवांश में अशुभ फल देने वाला, अस्त भावों से युक्त होकर पंचम भाव में स्थित हो, तो संतान प्राप्ति में निश्चित तौर पर बाधा उत्पन्न होती है। ऐसे में यदि योग कारक ग्रह की पूजा  की जाए, उसे दान, हवन आदि से शांत किया जाए, तो यह उपाय बाधा को हरने वाला सिद्ध होता है और संतान का सुख प्रदान करता है। फल दीपिका के अनुसार देखें – एवं हि जन्म समये बहुपूर्वजन्मकर्माजितं दुरितमस्य वदन्ति तज्जाः। ततद ग्रहोक्त जप दान शुभ क्रिया भिस्तददोषशान्तिमिह शंसतु पुत्र सिद्धयै।। इसका अर्थ है कि हम जन्म कुंडली से से यह जान सकते हैं कि पूर्व में हमने ऐसे कौन से पाप किए हैं कि इस जन्म में हमें संतानहीनता का सामना करना पड़ रहा है। बाधाकारक ग्रहों अथवा उनके देवताओं की पूजा जाप, दान व हवन आदि शुभ क्रियाओं को करने से पुत्र की प्राप्ति होती है। यदि संतानहीनता का कारण सूर्य है, तो यह पितृ पीड़ा है। पितरों की शांति हेतु गयाजी में पिंड दान करना चाहिए। हरिवंश पुराण को सुनना लाभकारी रहता है। सूर्य रत्न माणिक्य धारण करें, अवश्य ही लाभ होगा। रविवार के दिन सूर्योदय के बाद गेंहू, गुड़, केसर, लाल चंदन, लाल वश्त्र, तांबा, सोना और लाल रंग के फलों का दान करना चाहिए, ऐसा करने से शीघ्र ही संतान की प्राप्ति होती है। सूर्य के बीज मंत्र ‘ओम हृां हृीं हृों सः सूर्याय नमः’ का 7000 बार जाप करने से सूर्य कृत अनिष्टों से मुक्ति मिल जाती है। रविवार को मीठा व्रत रखने, गायत्री मंत्र का जाप करने तथा तांबे के पात्र में जल, लाल चंदन, लाल पुष्प  डालकर नित्य सूर्य को अध्र्य देने से भी संतान का सुख प्राप्त होता है। बेलपत्र की जड़ को विधिपूर्वक रविवार को लाल डोरी में पिरोकर धारण करने से भी इस संबंध में लाभ होता है। वर्तमान में भी कुछ लोग ऐसे हैं, जिनका मानना है कि बंश को आगे बढ़ाने के लिए लड़कों की आवश्यकता होती है। आज वह समय है, जब लड़कियाँ भी लड़कों के न केवल कदम से कदम मिलाकर चल रहीं है अपितु कुछ क्षेत्रों में तो लड़कों से भी आगे निकल गईं हैं। लोग पुत्र प्राप्ति के लिए विभिन्न प्रकार के तंत्र–मंत्र–यंत्र का प्रयोग करने से भी नहीं चूकते, जो उन्हें लाभ के स्थान पर हानि भी पहँचा सकता है। ज्योतिष में पुत्र प्राप्ति के लिए अत्यन्त ही सरल उपाय सुझाए गए हैं। ऐसे ही एक सरल मंत्र को देखिए – श्री गणपति जी की मूर्ति पर पुत्र प्राप्ति की इच्छा रखने वाली महिला प्रतिदिन स्नानादि से निवृत होने के पश्चात एक महीने तक इस मंत्र का जाप करे – ‘ ॐ पार्वतीप्रियनंदनाय नमः’ इस मंत्र की प्रतिदिन 11 माला जपने से अवश्य ही संतान की प्राप्ति होती है। संतान प्राप्ति कब होगी 2022?संतान पक्ष क्या होता है?संतान सुख कब मिलेगा?कौन सी राशि को पुत्र प्राप्त होगा? Any other Enquiry Call and Wahtsapp +91 9950528152 You Want to Buy this Product discuss with pandit ji he will guide you how to buy and use this product. Click Here To Call

0 Comments
Read more about the article संतान प्राप्ति के योग – पुत्र प्राप्ति के योग कैसे बनते हैं ?
santan-prapti-ke-yog-jyotish-totke

दुर्गा वशीकरण मंत्र – Durga Vashikaran Mantra

दुर्गा वशीकरण मंत्र दुर्गा वशीकरण मंत्र: वशीकरण अर्थात सम्मोहन या आकर्षण प्रयोग के विविध मंत्रों में देवी दुर्गा वशीकरण मंत्र भी विशिष्ट व अचूक प्रभाव वाले होते हैं। उनके कुछ सरलता के साथ सामान्य जाप किए जाते हैं, तो कुछ पूरी तरह से विधि-विधान के साथ विशेष वैदिक या तांत्रिक अनुष्ठान के बाद प्रयोग में लाए जाते हैं। इसके प्रयोगों से अगर स्वाभाव, आचरण  या व्यवहार से अनियंत्रत हो चुके किसी व्यक्ति को अपने नियंत्रण में लाया जा सकता है तो रूठे निकट संबंध के व्यक्ति का मान-मनव्वल भी संभव है। वैचारिक और भावनात्मक मतभेद से बिगड़े चुके दांपत्य संबंध हों या फिर अनैतिकता की राह पर भटके हुए परिवार का कोई सदस्य, उन्हें सही…

0 Comments
Read more about the article दुर्गा वशीकरण मंत्र – Durga Vashikaran Mantra
Jyotish-totke-Astrologer-Secret-Enemy-Destroyer-Totke

शत्रु वशीकरण , गुप्त शत्रु नाशक टोटके – Secret Enemy Destroyer Totke.

शत्रु वशीकरण शत्रु वशीकरण टोटके, शत्रु वशीकरण प्रयोग, शत्रु नाशक मंत्र उम्मीद करते है की वशीकरण आप लोगों के लिए कोई नया या अंजान शब्द नहीं होगा। आज हर कोई इसे जानता व समझता है। वशीकरण, जादू-टोटका व मंत्र विद्या का इस्तेमाल सिर्फ भारत मे ही नहीं किया जाता, बल्कि विदेशों मे भी लोग अपने-अपने तरीके से इसका इस्तेमाल करते है। black magic से लेकर वशीकरण जैसा विषय लोगों को काफी रोमांचित भी करता है, और इसी के चलते यकीनन आप ने इस मुद्दों पर आधारित किसी न किसी फिल्म को जरूर देखा होगा। अगर आपने कभी वशीकरण की प्रक्रिया को सामने से नहीं देखा हो, तो फिल्मों मे दिखाए गए जादू-टोटके के तरीके कई बार कुछ…

0 Comments
Read more about the article शत्रु वशीकरण , गुप्त शत्रु नाशक टोटके – Secret Enemy Destroyer Totke.
shatru-ka-putla-banakar-naast-kese-kre-Secret-Enemy-Destroyer-Totke-jyotish-totke.

विवाह वशीकरण मंत्र। Marriage Vashikaran Mantra.

विवाह वशीकरण मंत्र विवाह एक सामाजिक पद्धिति है । लड़का हो या लड़की एक उम्र के बाद उनके  परिवार को उनके विवाह की चिंता सताने लगती है । प्राचीन समय से ही युवा मनपसंद जीवनसाथी पाने के लिए प्रयासरत  रहते है । उनके माता पिता की भी यही कोशिश होती है ही की उन्हें सुयोग्य जीवनसाथी की प्राप्ति हो । कुछ लोग इस प्रयासरत में सफल होते और कुछ असफल ।  ज्योतिष  शास्त्रों में मनपसंद जीवनसाथी को पाने के लिए कुछ उपायों का उलेख किये है । इनका प्रयोग करके मनपसंद जीवनसाथी प्राप्त किया  जा सकता है | ज्योतिष शास्त्रों में विवाह के लिए मंत्र तथा प्रयोग विधि निम्नलिखित है :- विवाह मंत्रा :- “ॐ…

0 Comments
Read more about the article विवाह वशीकरण मंत्र।  Marriage Vashikaran Mantra.
Vashikaran Mantra Love Marriage Vashikaran Mantra. jyotish totke

मनचाही शादी करने के उपाय। – manchahi shadi karne ke upay.

मनचाही शादी करने के उपाय कभी-कभी विवाह में देरी हो जाती है  जिस कारण अत्यंत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है या फिर किसी बाधा के कारण विवाह नहीं हो पाता है तो शीघ्र विवाह कराने के लिए  कुछ टोटकों को अपनाना चाहिए  इन टोटकों से  झट मंगनी  पट शादी हो जाती है । शीघ्र विवाह होने के टोटके – १-  जैसे कि हमें पता है  कि हर महीने में दो पक्ष होते हैं  एक शुक्लपक्ष दूसरा  कृष्ण पक्ष  तो हमको  शुक्ल पक्ष के पहले सोमवार से  शिवजी  का  व्रत आरंभ करना चाहिए  एवं नियमित रुप से  मंदिर जाकर शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए  ऐसा करने से  अति शीघ्र विवाह का योग बनता है २-…

0 Comments
Read more about the article मनचाही शादी करने के उपाय। – manchahi shadi karne ke upay.
manchahi-shadi-karne-ke-upay.-jyotish-totke

पति को सौतन से दूर करने का उपाय। – Remedy to get husband away from sautan.

पति को सौतन से दूर करने का उपाय सौतन से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय – पति-पत्‍नी का रिश्‍ता बड़ा नाज़ुक और अहम होता है। अगर इस रिश्‍ते में दरार आ जाए तो पूरा जीवन बरबाद हो जाता है। पति-पत्‍नी के बीच झगड़े की वजह कई बार शक या दोनों के बीच किसी और पराई स्‍त्री का आ जाना भी हो सकता है। पराई स्‍त्री की वजह से आपका वैवाहिक जीवन मुश्किलों से भर जाता है। अगर आपके पति किसी पराई स्‍त्री के मोहजाल में फंस गए हैं तो आप ये उपाय कर उन्‍हें उस स्‍त्री से दूर कर सकती हैं। आज हम आपको बताते हैं कि अपने पति को पराई स्‍त्री से बचाने…

0 Comments
Read more about the article पति को सौतन से दूर करने का उपाय। – Remedy to get husband away from sautan.
Remedy-to-get-husband-away-from-sautan.-pati-ko-sautan-se-door-karane-ka-upaay-JYOTISH-TOTKE

घर में सुख शांति के उपाय। – Remedies for peace at home.

घर में सुख शांति के उपाय गृह कलह से मुक्ति के ज्योतिष उपाय – जैसा कि आप यह जानते हैं कि सभी सुख शांति से जीना चाहते हैं | हर व्यक्ति चाहता है कि उसका जीवन शांतिपूर्ण वातावरण में चलता रहे | परंतु, हमारे या आपके या किसी के भी चाहने से क्या होगा ? सभी जानते हैं कि हर घर में कुछ ना कुछ परेशानी और क्लेश रहता ही है | आए दिन परिवार के सदस्यों में मनमुटाव होता ही रहता है | फिर चाहे पर पिता-पुत्र हो या सास-बहू, पति पत्नी हो या भाई बहन ही क्यों ना हो | बात अगर थोड़ी सी हो तो फिर भी जीवन शांति से जिया जा…

0 Comments
Read more about the article घर में सुख शांति के उपाय।  – Remedies for peace at home.
Remedies for happiness and peace in the house, Plant of happiness and peace in the house, Remedies for happiness and peace in the house, Mantras for happiness and prosperity in the house, Remedies for blessings in the house, Remedies and tricks to eliminate black trouble in the house, Reasons for unrest in the house, Measures to stop fighting in the house, Remedies for peace of mind

शादी में रुकावट दूर करने के उपाय। Remedies to remove obstacles in marriage.

शादी में रुकावट दूर करने के उपाय जीवन को सुचारु रुप से चलाने के लिए यह जरूरी है कि विवाह समय पर हो पर कभी-कभी कुंडली में ऐसे योग बनते हैं जिनके कारण स्त्री या पुरुष विवाह की खुशियों से वंचित रह जाते हैं और यह रूकावट बाहरी वजह से भी आती है आज हम आपको कुछ ऐसे ही अचूक उपाय बताएंगे जिसको  करने से कन्या एवं वर दोनों को ही निश्चित रूप से मनवांछित फल प्राप्त होगा और शीघ्र विवाह होगा। शादी में रुकावट के कारण :- यदि कुंडली में सातवें घर का स्वामी सप्तमांश कुंडली में किसी नीच ग्रह के साथ अशुभ  भाव में बैठा हो तब विवाह नहीं हो पाता है ।…

0 Comments
Read more about the article शादी में रुकावट दूर करने के उपाय। Remedies to remove obstacles in marriage.
shaadi-mein-rukawat-door-karne-ke-upay-kya-karne-se-shaadee-jaldee-hotee-hai-jyotish-totke.

शनिवार के दिन वशीकरण मंत्र। – Vashikaran Mantra on Saturday.

शनिवार वशीकरण टोटके | सबसे शक्तिशाली वशीकरण के टोटके। हिंदू धर्म शास्त्रों में हर दिन को एक अलग ही नज़रिए से देखने की परम्परा है| हर दिन के स्वामी एक अलग देवता है| इस क्रम में सबसे अधिक लोग शनिवार से डरते हैं क्योंकि शनि देव इनके स्वामी हैं| सूर्य पुत्र शनिदेव को लाकर तरह-तरह की भ्रान्ति है| लोग कोई भी शुभ काम शनिवार को नहीं करते| जबकि तंत्र की दृष्टि से इस दिन का ख़ास महत्त्व है| कई साधनाएं शनिवार को ही प्रारंभ की जाती हैं| इसका कारण यह है कि शनिदेव न्याय के देवता माने जाते हैं| वह किसी भी जातक को उसके कर्मों का फल अवश्य देते हैं| कोई भी उनकी दृष्टि…

0 Comments
Read more about the article शनिवार के दिन वशीकरण मंत्र।  – Vashikaran Mantra on Saturday.
shanivaar ke din vasheekaran mantr jyotish totke